Sunday, 10 August 2014

मनी प्लांट - स्वास्थ्य, समृद्धि और बरकत वाला पौधा

मनी प्लांट - स्वास्थ्य, समृद्धि और बरकत वाला पौधा
















मनी प्लान्ट, दक्षिणपूर्व एशिया मूल का लता रूप में पसरने वाला पौधा है । इसकी पत्तियाँ सदा हरी रहती हैं । ये तने पर एकान्तर क्रम में लगी होती हैं और हृदय जैसी आकृति वाली होती है । मनी प्लांट का पौधा लोग लोग घरों में इसलिए लगाते हैं ताकि उनके घर में धन बना रहे और कभी धन की कमी न हो । इसे मित्रता का प्रतीक भी माना जाता है क्योंकि इसे उगाना बहुत ही आसान है । इसके तने को या छोटे टुकड़े का भी अगर पानी में रखा जाए या गमले में लगा दिया जाए तो यह आसानी से बड़ा हो जाता है यही कारण है कि इसे शुभ माना जाता है मित्रता भी इसी तरह जो होती है ।














 फेंग शुई का मानना है कि घर में अगर मनी प्लांट लगाया जाए तो घर में बरक्कत बनी रहती है । वास्तु विज्ञान के अनुसार हर पौधे के लिए एक दिशा निर्धारित है । अगर उचित दिशा में पेड़-पौधा लगाते हैं तो वातावरण की सकारात्मक ऊर्जा का लाभ मिलता है लेकिन गलत दिशा में वृक्षारोपण करने से लाभ की बजाय नुकसान होने लगता है । वास्तु विज्ञान में मनी प्लांट का पौधा लगाने के लिए आग्नेय दिशा यानी दक्षिण-पूर्व को उत्तम माना गया है । आग्नेय दिशा के देवता गणेश जी है और प्रतिनिधि ग्रह शुक्र है । 












गणेश जी अमंगल का नाश करते हैं और शुक्र सुख-समृद्धि का कारक होता है । बेल और लता का कारक शुक्र होता है इसलिए आग्नेय दिशा में मनी प्लान्ट लगाने इस दिशा सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है । मनी प्लांट के लिए सबसे नकारात्मक दिशा ईशान यानी उत्तर पूर्व को माना गया है । इस दिशा में मनी प्लांट पर धन वृद्धि की बजाय आर्थिक नुकसान हो सकता है । ईशान का प्रतिनिधि ग्रह बृहस्पिति है । 

















शुक्र और बृहस्पति में शत्रुवत संबंध होता है क्योंकि एक राक्षस के गुरू हैं तो दूसरे देवताओं के गुरू ।  उत्तर पूर्व दिशा के लिए सबसे उत्तम तुलसी का पौधा होता है इसलिए ईशान दिशा में मनी प्लांट लगाने की बजाय चांहे तो तुलसी लगा सकते हैं । मनी प्लांट घर में धन, स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी लाता है जो एक भाग्यशाली संयत्रं के रूप में माना जाता है ।





1 comment: