Wednesday, 20 August 2014

.सारंगी - पारंपरिक संगीत यंत्र


.सारंगी - पारंपरिक संगीत यंत्र










.



सारंगी भारत में सबसे लोकप्रिय और सबसे पुराने झुके उपकरणों में से एक है । सांरगी हमेशा शास्त्रीय संगीत परंपरा के हिंदुस्तानी स्कूल में एक महत्वपूर्ण स्ंिटँग साधन रूपों में उपयोग होता है । भारतीय उपकरणों में सारंगी की आवाज मानव की आवाज से बहुत मिलती जुलती है, नाम सांरगी की उत्पत्ति दो हिन्दी शब्दों ‘‘साव’’ (100 ) और बजाई ‘‘ रंग’’ से प्राप्त किया गया है । सारंगी बजाने वाले में मन में मौजूद शास्त्रीय गीतों के शब्द अपने आप सुनाई देते हैं । कुछ ऐतिहासिक  तथ्यों और वास्तविक जीवन साधन से संबंधित तथ्यों दशहरा, दीपावली आदि जैसे त्योहारों के दौरान बजाये जाते थे लेकिन आजकल सांरगी रिकाॅडिंग स्टूडियो और केवल कुछ सांस्कृतिक कार्यक्रम में खेले जाते हैं । सारंगी की आवाज बहुत आकर्षक और मिलनसार है, क्योंकि यह इस प्रकार सांरगी नाम दिया गया है । यह भी संगीत रूपों में से एक विविध रेंज  इंगित करता है । सारंगी भावनाओं और लचीला धुनों के विभिन्न रंगों का उत्पादन करने की क्षमता है । वर्तमान समय में, सारंगी परंपरागत कथक नृत्य, ,ख्याल, ठुमरी, दादरी संगीत की सबसे पसंदीदा साथ संगीत वाद्य है ।



1 comment: