Tuesday, 3 June 2014

टिटहरी एक मनमोजी पक्षी ( Lapwing Bird) - (लुप्तप्राय प्रजाति)

   टिटहरी एक मनमोजी पक्षी  ( Lapwing Bird)  - (लुप्तप्राय प्रजाति)  

 टिटहरी एक ऐसा अनोखा पक्षी है जो उड़ता कम है यह अपना अधिकांश समय तालाब और झीलों के नजदीक गुजारता है । भारत के सभी प्रदेशों में टिटहरी पाई जाती है । इसका अंग्रजी नाम ‘‘ लेपविंग ’’ है । भारत में इसकी 2-3 प्रजातियां ही पाई जाती है । टिटहरी का आकार प्रकार कुछ कुछ बगुले से मिलता जुलता होता है । गर्दन बगुले से छोटी होती है । सिर और गर्दन के ऊपर की तरफ और गले के नीचे का रंग काला होता है इसके पंखों का रंग चमकीला कत्थई तथा सिर गर्दन के दोनों ओर एक सफेद चैड़ी पटटी होती है । टिटहरी की दोनों आंखों के सामने एक गूदेदार रचना पाई जाती है इस रचना को देखकर यह पक्षी दूर से ही पहचान लिया जाता है । टिटहरी की दूसरी प्रजाति में आंखों के पास पाई जाने वाल यह रचना पीले रंग की गूदेदार होती है । 
टिटहरी एक मनमोजी पक्षी है । जिसे खुला स्थान जहां कीड़े मकोड़े खाने को मिले रहता है । टिटहरी एक चैकन्ना और चालाक पक्षी है । जो अपने नजदीक आने वाले जानवर (कुत्ते एवं बिल्ली इत्यादि), मनुष्य को देखकर शोर मचाना शुरू कर देता है । टिटहरी दिन रात जाग कर अपने अंडों और बच्चों की देखभाल करता है। । टिटहरी मार्च से अगस्त महीने  के बीच 2-3 या 4 अंडे देती है । टिटहरी के अंडों का रंग मिटटी से मिटटी के रंग से मिलता जुलता होता है ।  इसलिए लोगों की नजर  इनके अंडों पर नहीं पड़ती है । टिटहरी के बच्चों का रंग भी धरती के रंग जैसा ही होता है । मादा टिटहरी और नर टिटहरी दोनों मिलकर बच्चों का पालन पोषण करती है । हमारे देश में सलेटी टिटहरी ( सोशिएब लैप विंग) की प्रजाति पर लुप्त होने का खतरा आ गया है । इंटरनेशनल यूनियन फोर कनजरवेशन आफ नेचर एवं नेचुरल रिर्सोसेस (आई यू सी एन ) ने 2006 को जारी नई रेड डेटा बुक में लुप्तप्राय प्रजातियों का उल्लेख करते हुए कहा है कि  सलेटी टिटहरी को लुप्त प्रायः श्रेणी में रखा है । भारत के सूखी घास एवं सूखे मैदानी इलाकों में लंबी टांगों वाला यह पक्षी अपना भोजन तलाश करते हुए गुजारा करता है । टिटहरी पक्षी की लम्बाई 11-13 इंच एवं पंखों का फैलाव 26-34 इंच होता है इसका शरीरिक भार लगभग 128-330 ग्राम पाया गया है । इसके पंख गोलाकार होते हैं तथा सिर पर एक उभरा भाग होता है जिसे क्रेस्ट कहते हैं ।  इसकी पूंछ छोटी एवं काली होती है जिसकी लम्बाई लगभग 104-128 मि.मी. पाई गई है इनके चोंच की लम्बाई लगभग 31-36 मि.मी. देखी गई है । अंडों का आकार ओवल होता है जिसकी आकार 33 गुना 47 मि.मी. होती है । ये चिकने एवं पत्थर / मिटटी के रंग के होते हैं एवं इन पर काले धब्बें होते हैं । मादा टिटहरी 4 अण्डें देती है एवं इनसे 28 से 30 दिनों में बच्चे निकल आते हैं । दोनो मादा एवं नर अण्डों की देखभाल एवं सेने का काम करते हैं । टिटहरी चिड़िया टांग आकाश की तरफ उठा कर सोती है और सोचती है कि आकाश उसी के कारण टिका है । आसमान के बारे में अनेक कहावतें हैं उनमें से एक यह कि टिटहरी को हमेशा लगता है कि उसकी टांग हटी कि आसमान गिरा । कोई वैज्ञानित प्रमाण नहीं पर बुजुर्गों के अनुसार उनका कई वर्षो का अनुभव कहता है कि  जिस वर्ष टिटहरी जितने मात्रा में अंडे देती है  उतने माह तक भरपूर बारिश होती है । कहा जाता है कि टिटहरी नदी, नालों व तालाब के किनारे पर ही अंडे रखती है । पानी के किनारों से जितना दूर वह अंडे रखे बारिश उतनी अधिक । अगर वह किनारों से 50 मीटर की दूरी पर अंडे रखे है जिससे लगता है कि बारिश तो अधिक होगी ही साथ ही बाढ़ जैसे हालात भी   बनेंगें । खेतों / जोहड़ के आस पास टिटहरी की तलाश की जाती है फिर देखते हैं कि  उसने कितने ऊंचें अंडें दिए है अगर वह पाल से भी ऊपर अंडे देती है तो समझों कि इस बार पानी की कोई कमी नहीं होगी । 
 टिटहरी के अलावा अन्य पशु पक्षियों को मौसम और अन्य खागोलिक घटनाओं का पूर्वानुमान होता है ।  आज हम प्रकृति से दूर होते जा रहें हैं । पता नही ंहम कब कुछ ऐसा सीखेंगें जो हमें और प्रकृति को एकमेव कर देगा ।








1 comment:

  1. सूखे तलाब के तलहटी में 4 अंडे दी है। जिनका मुख उपर की ओर है। कैसी बारिश हो सकती है?

    ReplyDelete